Flash Newsउत्तर प्रदेशमहाराजगंज

17 वर्षीय नाबालिग बालक की हत्या के आरोप में चार अभियुक्तों को पुलिस ने किया गिरफ्तार, हत्या की वजह जान हो जाएंगे हैरान

हिन्दमोर्चा न्यूज महराजगंज/निचलौल।

बताते चलें कि दिनांक 05/11/2021 को निचलौल थाना क्षेत्र के जंगल में अमन मद्धेशिया उम्र 17 वर्ष का शव बरामद हुआ था घटना के अनावरण हेतु पुलिस अधीक्षक महाराजगंज के निर्देशन में घटना के अनावरण हेतु कई टीमें लगाई गई थी एसपी के आदेश का अनुपालन करते हुए आज दिनांक 23/11/2021 को थाना निचलौल द्वारा घटना का सफल अनावरण करते हुए घटना में शामिल चार अभियुक्तों को मुखबिर खास की सूचना पर कत्ल के इल्ज़ाम में किया गया गिरफ्तार ।

पिछले कई दिनों अभियुक्तों की तलाश कर रही पुलिस को आज मुखविर खास द्वारा सूचना प्राप्त हुई की दिनांक 30.10.2021 को अमन नाम के लड़के का अपहरण होकर हत्या हुई थी उसके वांछित व अन्य अभियुक्त आज कटरा तिराहे पर मौजूद हैं और ठुठीबारी के रास्ते नेपाल राष्ट्र जाने की फिराक मे हैयदि जल्दी किया जाय तो पकड़े जा सकते हैं ।

इस सूचना पर विश्वास कर तत्काल मुखबिर द्वारा बताये हुये स्थान कटरा तिराहे पहुँचकर चारो व्यक्तियों के मय मोटरसाइकिल के समय करीब 21.50 बजे पकड़ लिया गया ।

पूछताछ के दौरान हैरान कर देने वाली कहानी आई सामने

अभियुक्तो का नाम पता पूछने पर क्रमश 1. लक्ष्मण उर्फ सागर मद्धेशिया 2. विष्णु मद्धेशिया 3. सन्त पासवान 4. मुकेश मद्धेशिया बताये । वांछित अभियुक्त लक्ष्मण उर्फ सागर ने बताया कि अमन मुझे छोटे छोटे बच्चो व अपने साथियो के साथ बकरी कहकर चिढ़ाता था जिससे मेरा सामाजिक अपमान होता था तथा

अक्सर अबे बकरे कहकर तु मेरा कुछ नही विगाड़ सकता क्योकि मेरे पिता के पास व्यापार से कमाया हुआ काफी पैसा है कह कर मेरी उम्र से काफी छोटा होने के बावजूद मेरा मान मर्दन करता था जिससे मै अपने आप को अपमानित महसूस करता था ।

इसलिये मैने उस दिन उसको गुस्से मे मार पीट दिया था तथा हम दोनों के बीच काफी गाली गलौज हुई थी इस घटना के तुरन्त बाद उसने अपने पिता राकेश को फोन कर शिकायत की थी तथाउसी दिन उसके पिता करीब 5.00 बजे शाम के समय जब मारवाड़ी मुहल्ला स्थिति अपने मकान पर आये तो मैं भी शराब पीकर उसके मकान के पास जाकर अमन व

उसके पिता राकेश को ललकारते हुए खूब गाली गलौज कर अपने घर चला आया ।

थोड़ी ही देर बाद राकेश उपरोक्त अपने 25 से 30 साथियो के साथ हाकी डन्डा लेकर थोड़ी ही दूर स्थित मेरे घर के पास आ गये तथा ललकारते हुए खूब गाली गलौज कर अपमानित करते रहे । हमारा परिवार उस समय डर गया था तथा हम लोग डरकर घरों के अन्दर बन्द हो गये ।

अगले दिन मारवाड़ी मुहल्ले मे लोग हमारा सामाजिक यह कह कर अपमान करने लगे कि छोटे बच्चे ने तुमको औकात बता दी और तुम कुछ नही कर पाये । इसी बात से क्षुब्ध होकर मन मे अपमान की भावना रखकर मैं कुछ दिन बाद कोयम्बटूर तमिलनाडु चला गया परन्तु मेरा मन मुझे कचोटता रहा तथा लगभग 15 दिनो बाद मै तमिलनाडु से ट्रेन द्वारा गोरखपुर होते हुए निचलौल पहुँचा ।

तथा अपने रिस्तेदार/पट्टीदार विष्णु मद्धेशिया से सम्पर्क किया चूँकि विष्णु उपरोक्त के उपर अमन बहुत विश्वास करता थाl

तथा उसके कहने पर विश्वास करके उसकी मोटरसाइकिल से बिना झिझक विष्णु के कहने पर बैठकर चला जाता था । इसी बात का फायदा उठाते हुए अपने मित्रो जिनमे सन्त पासवान व मुकेश मद्धेशिया को आपस मे एक राय होकर चमनगंज देशी शराब ठेके पर योजना के मुताबिक अपमान का बदला लेने के लिये तथा अमन को खत्म करने व उसके पिता राकेश के पैसो के घमण्ड को खत्म करने के लिये एक राय होकर निर्णय लिया कि विष्णु

अमन को अपने विश्वास मे लेकर अपनी मोटरसाइकिल पर बैठा कर चमनगंज से ढेसो मार्ग पर जाने वाले सेन्चुरी जंगल मे ले कर जायेगा तथा मैं सन्त व मुकेश उपरोक्त वही पर पहले से मौजूद रहेगें । एक साथ मिलकर उसकी जीवन लीला समाप्त कर देगें । जंगल काफी घना होने के कारण उसकी लाश को वहीं झाड़ियो मे ठिकाने लगा देगें योजना को आगे बढ़ाते हुए हम लोगों ने एक राय होकर दिनांक 30.10.2021 को समय करीब 3 बजे शाम के आस पास सन्त पासवान से उसके मोबाइल नम्बर से वार्ता कर काली मन्दिर के पास जो सुनसान जगह है पर बुलाया तथा

वही पर विष्णु को मोटरसाइकिल से बुलाकर तथा अमन को विश्वास मे लेकर मोटरसाइकिल पर बैठाकर सात पाँच पुल से चमनगंज होते हुए ढेसो मार्ग पर सेन्चुरी जंगल मे अन्दर घुमाते हुए करीब पाँच बजे शाम जंगल के काफी अन्दर ले आयेl

तथा इसी बीच हम लोग योजना के मुताबिक घनी झाड़ियो के बीच मैने अमन के सर पर लकड़ी के डन्डे से जोरदार वार किये जिससे वह अचानक जमीन पर गिर गया तथा मेरे दोस्त विष्णु, मुकेश व सन्त ने बारी बारी से उसके शरीर डन्डे से मारा पीटा उसके बाद अमन अधमरा होकर जमीन पर गिर गया थोड़ी देर बाद फिर से वह अपने हाथ पैर हिलाने लगा तो हम लोगों को लगा कि अभी जिन्दा हैl

इस पर विष्णु, सन्त पासवान व मुकेश ने उसका हाथ पैर पकड़ लिया तथा मैने अपने साथ लाये धारदार लोहे के चाकू से उसके गले को आगे से रेत कर काट दिया जिससे खून की धार निकलने लगी उसके बाद हम लोगों ने मिलकर चौड़े वाले खाकी रंग के सेलो टेप से उसके गले को बाँध कर चिपका दिया ।

तथा उस समय बहुत ज्यादा खुन निकलने के कारण मेरे व विष्णु के कपड़ो मे खुन लग गया था जिसे हम लोगो ने पोछने की कोशिश की थी तथा खुन से सने चाकू को जंगल मे कुछ दूरी पर जमीन मे गाड़ दिया था तथा खून से सने डन्डे व बचे हुए खाकी सेलो टेप को भी उसी के पास झाड़ियो मे फेक दिया था । तथा अमन की लाश को मौके पर उल्टा कर दिया था ।

जल्द बाजी मे विष्णु का लाल रंग का गमछे को वही पर छूट गया था । तथा अंधेरा होने पर हम लोगो मे से मुकेश व सन्त पासवान सीधे चमनगंज ठेके पर शराब पीने पहुँच गयेl

तथा थोड़ी देर बाद कपड़े बदल कर मै और विष्णु भी चमनगंज शराब पीने पहुँच गये ।मेरे व विष्णु के पास आज भी खून वाले कपड़े को अखबारी पेपरो मे अपने अपने घरों मे लपेट कर कमरो के कोने पर छुपा दिये जो हमारे घर पर मौजूद है ।

हम लोग पुलिस की डर से आज नेपाल जाने के लिये कुछ पैसो का इन्तजाम कर रहे थे कि आप लोगो ने पकड़ लिया ।अभियुक्तगणों की निशान देही पर कत्ल में इस्तेमाल चाकू, झाड़ी के अन्दर छिपा हुआ एक अदद लकड़ी का डन्डा, सेलो टेप बरामद हुआ ।

अभियुक्तगणो को उनकी जुर्म धारा 364/201/302/120Bभादवि0 व अभियुक्त लक्ष्मण उर्फ सागर को धारा 4/25 आर्म्स एक्ट से भी अवगत कराते हुए वाजाफ्ता पुलिस हिरासत मे लिया गया ।इस हत्याकांड का सकुशल पर्दाफाश करने वाली टीम को एसपी महाराजगंज की तरफ से 10 हजार का नगद पुरस्कार दिया गया एवं पूरी टीम को शाबाशी दी गई

इस नेक काम के लिए पीड़ीत के घर वालों ने भी पुलिस टीम का आभार व्यक्त किया।

हिन्दमोर्चा ब्यूरो महराजगंज।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button