अवैध आरा मशीनों का संचालन व खनन बसखारी पुलिस के लिए बन गया है कमाई का जरिया

0
224

⏺थाना क्षेत्र मंे जिधर देखिए वहीं ट्रालियों पर लदी मिट्टी व हरी लकड़ी हो रही ढुलाई  

अंबेडकरनगर। अपराध, भ्रष्टाचार ,अवैध धंधों की जड़ बनी बसखारी थाना क्षेत्र जहां पर अवैध कारोबार तेजी से फल-फूल रहा है। मानो कि जैसे जनपद में सबसे सहज और सुरक्षित थाना क्षेत्र बसखारी हो जहां पर खुलेआम बेखौफ होकर कोई भी अवैध कारोबार को धड़ल्ले से फैलाया जा सकता है। क्योंकि जिस तरह से यहां पर अवैध रूप से हरे पेड़ों की कटान अवैध मिट्टी खनन और अवैध आरा मशीनों का संचालन हो रहा है।
ऐसे में तो यह कहना बिल्कुल अनुचित नहीं होगा कि बसखारी थाना क्षेत्र में अवैध कारोबार का अब बन चुका है। क्योंकि इन अवैध कारोबारियों को पुलिस की जरा सा भी डर नहीं होता बेझिझक किए अपने कामों को अंजाम देते हैं। सूत्रों की मानें तो बसखारी थाना क्षेत्र में लगभग दर्जनभर आरा मशीनें धड़ल्ले से संचालित हो रही है और वन माफियाओं द्वारा हरे पेड़ों को काटकर अवैध आरा मशीनों पर लाया जाता है जिससे मोटी रकम कमाने की चाह में अपने इस अवैध कारोबार को तेजी से बढ़ाने में लगे हुए हैं।
सूत्र यह भी बताते हैं कि इन अवैध कारोबार में बसखारी पुलिस और वन विभाग का संरक्षण बना रहता है जिससे निश्चिंत होकर यह धंधा  खूब फल फूल रहा है। सूत्र यह भी बताते हैं कि बसखारी बाजार के आसपास कई स्थानों पर लोगों की नजर से छिपाकर आरा मशीनों को धड़ल्ले से संचालित किया जा रहा है और बसखारी पुलिस अपने आंख कान मुद्दे हुए हैं जिसका कारण अवैध कारोबारियों से अच्छा खासा रकम बताया जा रहा है।
पुलिस और वन विभाग की सांठगांठ के मदद से आरा मशीनों का संचालन तेजी से बढ़ रहा है जिस पर लगाम लगा पाना स्थानीय प्रशासन व वन विभाग की नाकामी को साबित कर रहा है। बीते समय में अवैध आरा मशीन के संचालन की खबरें में कई बार प्रकाशित हो चुकी हैं और कार्रवाई के नाम पर सिर्फ खानापूर्ति करके मामले को रफा-दफा कर लिया जाता है।
क्योंकि यहां भी लक्ष्मीनिया का कमाल होता है। ऐसे में माननीय सुप्रीम कोर्ट के आदेशों की धज्जियां तो अवैध कारोबारी खुलेआम उड़ा ही रहे हैं लेकिन इनका पनागर बना स्थानीय प्रशासन व वन विभाग भी इसमें पीछे नहीं है।

Report: Hindmorcha Team Ambedkarnagar

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.