अंबेडकरनगर : पोल्ट्री फार्म में लगी आग में जलकर राख हो गए 10 हजार मुर्गे

0
448
अंबेडकरनगर (HM News)l अंबेडकरनगर में अशरफाबाद गांव में स्थित एक पोल्ट्री फार्म में शुक्रवार को सुबह आग लग गई। आग की चपेट में आने से लगभग 10 हजार मुर्गे और चूजे जलकर राख हो गए। भीषण अग्निकांड में लगभग 65 लाख की क्षति होने का अनुमान है। मौके पर सीओ आलापुर, नायब तहसीलदार, एसओ जहांगीरगंज और फायरब्रिगेड का वाहन भी पहुंचे और आग बुझाने में सहयोग किया।
बताया जाता है कि जहांगीरगंज थाना क्षेत्र के अशरफाबाद गांव के बाहर राजेश सिंह पुत्र रणजीत सिंह का पोल्ट्री फार्म है। राजेश सिंह पोल्ट्री फार्म पर ही सोते हैं। शुक्रवार की सुबह लगभग 6:30 बजे वह जगे और घर आकर ब्रश कर रहे थे इसी दौरान पोल्ट्री फार्म से धुआ निकलता दिखा।
धुआं निकलते देख राजेश सिंह एवं अन्य परिजन जब तक पोल्ट्री फार्म तक पहुंचते तब तक आग ने विकराल रूप ले लिया। किसी तरह ग्रामीणों एवं परिजनों ने जानपर खेलकर जल्दी जल्दी लगभग हजार चूजे एवं मुर्गे को निकाला परन्तु आग के विकराल रूप धारण करने से पोल्ट्री फार्म में लगभग दस हजार तैयार मुर्गे जलकर भस्म हो गए। देखते ही देखते पोल्ट्री फार्म धू धू कर जलकर खाक में मिल गए।
मामले की सूचना पर थानाध्यक्ष विवेक वर्मा एवं उपनिरीक्षक सुरेश कुमार हमराही पुलिसकर्मियों के साथ मौके पर पहुंचे फायर ब्रिगेड कर्मियों ग्रामीणों के साथ मिलकर आग बुझाना शुरू किया । बाद में क्षेत्राधिकारी जगदीश लाल एवं नायब तहसीलदार अरुण कुमार यादव ने मौके पर पहुंचकर स्थिति का जायजा लिया।
मौके पर पशुधन प्रसार अधिकारी डॉक्टर विवेक सिंह एवं उप मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी डॉक्टर सुबोध कुमार ने बचाये गये मुर्गों का इलाज कर रहे थे। पशुधन प्रसार अधिकारी विवेक सिंह का कहना था कि बचाये गये अधिकतर मुर्गे अत्याधिक हीट हो गए हैं। जिनके बचने की उम्मीद कम है।
पोल्ट्री फार्म के मालिक राजेश सिंह के अनुसार लगभग 50 लाख की कीमत के मुर्गे जलकर भस्म हो गए हैं। पोल्ट्री फार्म तैयार करने में लगभग 10 लाख खर्च हुआ था इसके अलावा लगभग चार लाख के पोल्ट्री फार्म के उपकरण भी जलकर खाक हो गए। लगभग साठ पैंसठ लाख का नुकसान हुआ है।
Read also : आवारा पशुओ के कहर से त्रस्त लोगो ने CM पोर्टल पर ऑनलाइन भेजी शिकायत, इटियाथोक BDO ने जबाब मे शाशन को भेजी रिपोर्ट

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.