इटियाथोक क्षेत्र के ग्रामो मे गन्ने की बुवाई जोरो पर, चीनी मिल अधिकारी ने दिए टिप्स

0
42

प्रदीप पांडेय

गोंडा युपी। क्षेत्र में गन्ने की खेती काफी बड़े क्षेत्रफल में की जाती है। इन दिनों क्षेत्र में गन्ना बुवाई का कार्य कई जगह तेजी से चल रहा है। अनेक किसान ऐसे भी है जो इसकी खेती अब नई तकनीक से कर रहे है। वही क्षेत्र में तमाम किसान ऐसे भी है जो इसकी खेती तो करते है किंतु उन्हें इस विषय मे पूरी जानकारी नही होती है ऐसे में उनको बेहतर उपज नही मिल पाती है। किसानों की यह समस्या देखकर अब संबंधित चीनी मिल के क्षेत्रीय अधिकारी किसानों को उपयोगी जानकारियां देकर अपने देख रेख में भी गन्ने की बुवाई करवा रहे है।
इटियाथोक ब्लाक क्षेत्र के नौसहरा, अर्जुनपुर, चुरीहारपुर, अयाह, वेदपुर, शिवपुरिया, मध्यनगर, करूवापारा आदि स्थानों पर इस वक्त जगह जगह गन्ने की बुवाई जोरो पर चल रही है। करूवापारा और अर्जुनपुर गांव में पहुंचे बलरामपुर चीनी मिल के सहायक गन्ना प्रबंधक धर्मेंद्र सिंह ने जानकारी देते हुए कहा कि गन्ने की बुवाई मे किसान बंधु सावधानी बरते नही तो रोग लग सकते है और उपज ठीक नही होगी।
उन्होंने कहा कि गन्ने की बुवाई के दौरान थोड़ी सी सावधानी बरतकर जागरुकता दिखाने से गन्ने की फसल का उत्पादन बढ़ सकता है। इतना ही नहीं लागत में कमी आ सकती है और फसल को रोगों से बचाया भी जा सकता है।
श्री सिंह ने कहा कि ऊपरी इलाको के लिए 118 व 238 तथा निचले इलाकों के लिए 94184 व 8272 तथा 98014 बीज उपयुक्त है। बताया कि मिल द्वारा बीज सोधन की दवा 50 फीसद अनुदान पर किसानों को दी जा रही है। गन्ने का ऊपरी भाग यानी पूरे गन्ने का एक तिहाई भाग जो ऊपरी हिस्सा हो, को बीज के रूप में इस्तेमाल करना चाहिए। कहा कि बीज शोधन भी बहुत ही जरूरी है।
बताया की बीज के लिए काटे गए गन्ने को किसी भी पारायुक्त रसायन में 5 मिनट तक रखे रहने के बाद ही बुवाई करनी चाहिए। उन्होंने कहा बीज काटते समय ध्यान रखना चाहिए कि टुकड़ा अगर लाल निकले तो उसका इस्तेमाल बीज के रूप में बिल्कुल न करें।

Read also : 16 मार्च से कुछ बैंकों के एटीएम से पैसे निकालने के नियमों में होगा बड़ा बदलाव

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.