अगर लड़की को पहला पीरियड आ चुका तो नाबालिग लड़की की शादी वैलिड- PAK हाई कोर्ट

0
243
पाकिस्तान के दो जजों ने 14 साल की लड़की से जुड़े मामले की सुनवाई करते हुए कहा है कि अगर लड़की का पहला पीरियड आ चुका है तो उसे बालिग माना जाएगा. हुमा यूनुस नाम की कैथोलिक लड़की के पिता ने आरोप लगाया है कि कराची में उनके घर से हुमा का अपहरण कर लिया गया था. बाद में हुमा ने इस्लाम धर्म कबूल कर लिया और मुस्लिम शख्स से शादी कर ली.
14 अक्टूबर 2019 को कथित किडनैपिंग की घटना के बाद से हुमा के पैरेंट्स उससे नहीं मिल पाए हैं. इस मामले की सुनवाई सिंध हाई कोर्ट के जज मुहम्मद इकबाल कलहोरो और इरशाद अली शाह कर रहे हैं.
इसी हफ्ते मामले की सुनवाई करते हुए जजों ने कहा कि अगर हुमा का पहला पीरियड आ चुका है तो इस्लामिक शरिया कानून के तहत उसे बालिग समझा जाएगा और अब्दुल जब्बार से उसकी शादी वैध मानी जाएगी. क्योंकि अब हुमा का कहना है कि उसने बिना किसी दबाव और खुद की इच्छा से शादी की है.
हालांकि, 2 जजों की बेंच की टिप्पणी से हुमा के पैरेंट्स को झटका लगा है. हुमा के पिता यूनुस मसीह ने कहा कि हमें झटका लगा है कि जजों ने हमारे सबूतों पर विचार नहीं किया और शादी को सही ठहराने के लिए शरिया कानून का हवाला दिया.
हाई कोर्ट ने अभी आखिरी फैसला नहीं सुनाया है. कोर्ट ने तीन फरवरी को मामले की सुनवाई करने के बाद अधिकारियों को हुमा की उम्र तय करने के लिए और समय दिया. अब इस मामले की सुनवाई 3 मार्च 2020 को होगी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.