दुल्हन ने फेंकी वरमाला, बंधक बनाई दिल्ली की बरात, पुलिस को देना पड़ा दखल

0
184
आगरा (HM News)। लगुन-सगाई के दौरान दहेज को लेकर वर पक्ष से हुए विवाद के बाद दुल्हन के परिजन चुप्पी साधे रहे। पिता सहित कई रिश्तेदार बगैर खाना खाए ही वापस लौट आए, लेकिन बेटी की खातिर बरात का पूरा इस्तकबाल किया। इधर बरात में फिर लेन-देन को लेकर वरपक्ष ने दबाव बनाया तो स्वजनों के अपमान से क्षुब्ध बेटी ने वरमाला के दौरान शादी से इन्कार कर दिया। स्वजनों ने बरात को बंधक बना लिया। मौके पर पहुंची पुलिस ने बरात को मुक्त कराया।
कासगंज में गंजडुंडवारा के संगम पैलेस में शनिवार की रात दिल्ली के मंगोलपुरी से बरात आई थी। वर एवं दुल्हन दोनों ही बीटीसी कर रहे है। बरात चढ़ने के बाद में दावत हुई। इसके बाद में वरमाला की तैयारी थी। बताया जाता है दहेज को लेकर फिर से वर पक्ष से कहा-सुनी हो गई। दुल्हन ने इस पर नाराजगी जताई। इसके चलते वरमाला का कार्यक्रम भी लेट हो गया।
दो बजे करीब वरमाला शुरू हुई तो स्टेज पर पहुंची दुल्हन ने वरमाला को फेंकते हुए शादी से इन्कार कर दिया। खुशी के माहौल में सन्नाटा फैल गया। बराती भी हैरत में पड़ गए। दुल्हन को मनाने का प्रयास किया, लेकिन दुल्हन ने दहेज लोभी होने का आरोप लगाेत हुए शादी से इन्कार कर दिया।
इसके बाद स्वजनों ने बरात को बंधक बनाते हुए मैरिज होम का गेट बंद कर लिया। पुलिस ने मौके पर पहुंच कर बरातियों को मुक्त कराया। ग्राम प्रधान अजीत नगर राहुल कुमार ने दोनों पक्षों को बैठाकर समझाया। वर पक्ष द्वारा 15 दिन में शादी में खर्च धनराशि को लौटाने की सहमति पर दोनों पक्षों में समझौता हुआ।
खबर मिलने पर संगम पैलेस पर डायल 100 पहुंची, लेकिन उसके बाद भी अंदर से गेट नहीं खोला। इसके बाद में फोन कर पुलिस फोर्स बुलाया, तब गेट खुल सका। इंस्पेक्टर गंजडुंडवारा विनोद मिश्रा का कहना है लेन-देन का विवाद था, बाद में दोनों पक्षों में दहेज का सामान लौटाने पर सहमति बन गई।
दुल्हन के परिजन लगुन चढ़ाने के लिए दिल्ली के मंगोलपुरी गए थे। वहां पर लड़के ने महंगी बाइक की मांग की। विवाद इतना हुआ था कि दुल्हन के पिता सहित कई रिश्तेदार खाना खाकर भी नहीं आए। इसके बाद में बरात के दौरान भी लेन-देन को लेकर विवाद हुआ तो दुल्हन ने इतना बड़ा फैसला ले लिया। दुल्हन के पिता कहते हैं मुझे अपनी बेटी पर गर्व है, उसने दहेज लोभी परिवार में न जाने का फैसला लिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.