गुप्तांग में तंबाकू अंतरंगता के पलों में आनन्द बढ़ाने के लिये कर रही महिलायें, डॉक्टरों ने दी चेतावनी

0
659
सेनेगल (Agency)l नशीले पदार्थ के रूप में इस्तेमाल होने वाले तंबाकू का प्रयोग अब सेक्स ड्राइव को बूस्ट करने के लिए भी किया जाने लगा है. डेली स्टार की एक रिपोर्ट के मुताबिक महिलाओं द्वारा वेजाइना (गुप्तांग) में तंबाकू रखकर सेक्स ड्राइव को बूस्ट करने की घटनाएं लगातार सामने आ रही हैं. डॉक्टर्स का मानना है कि सेक्स के तलब में ऐसा कर रही महिलाएं अपनी जिंदगी के साथ खिलवाड़ कर रही हैं.
एक तरफ जहां लोग इसे सेक्स ड्राइव को बूस्ट करने का फॉर्मूला बता रहे हैं. वहीं, दूसरी ओर चिकित्सकों ने इसे लेकर चेतावनी जारी की है.डॉक्टर्स का कहना है कि ऐसा करने से आप हमेशा के लिए यौन सुख से हाथ धो बैठेंगे. स्मोकिंग प्रोडक्ट के जरिए सेक्स ड्राइव को बूस्ट करना मौत को दावत देने के समान है.
प्रोफेसर पास्कल फॉमेन, ‘तंबाकू अल्सर जैसी बीमारियों का कारण बन जाता है, जो योनि को सिकोड़कर, इसे कठोर बनाता है और इसे हमेशा के लिए बंद कर सकता है.’ Sci Dev Net की एक रिपोर्ट के मुताबिक तंबाकू सामान्य तौर पर होने वाले मेन्सट्रूएशन को भी प्रभावित करता है. मेन्स्ट्रुएशन पर असर पड़ने की वजह से महिलाओं को गर्भधारण करने में भी दिक्कतें होंगी.
जाइनकोलॉजिस्ट डॉक्टर अब्डुलाये डियोप का कहना है कि ये वेजाइना के सिकुड़ने का भी बड़ा कारण बन सकता है. वेजाइना में तंबाकू रखने वाले पीड़ितों ने महसूस किया है कि उनके गुप्तांग छोटे होते जा रहे हैं क्योंकि उनकी अंतरंग मांसपेशियां पीछे की तरफ खिसकने लगी हैं.
डॉक्टर डियोप का कहना है, ‘यह भावना क्षणिक और भ्रामक है. ऐसा करना वेजिनल मुकोसा के लिए खतरनाक है जिसके कारण कैंसर जैसी घातक बीमारी का खतरा भी बढ़ जाता है.’इस तरह के ज्यादातर मामले वेस्ट अफ्रीका के देश सेनेगल से सामने आए हैं. इस देश में कई महिलाएं यौन सुख पाने के लिए अपनी जिंदगी से खिलवाड़ कर रही हैं.
सेनेगल में लोगों के बीच ऐसी भ्रांतियां हैं कि 13 पैसे में मिलने वाला तंबाकू आपको सातवें स्वर्ग का एहसास करा सकता है.बता दें कि यह उत्पाद तंबाकू के सूखे पत्ते, पेड़ों की जड़ों और पौधों के अर्क से प्राप्त होता है. इसके अलावा इसे ज्यादा असरदार बनाने के लिए इसमें सोडा और शिआ बटर जैसे पदार्थ भी मिलाए जाते हैं.
इस तरह की सभी चीजों को सेहत के लिए बेहद खतरनाक माना जाता है. ऐसे प्रैक्टिकल तो महिलाओं के स्वास्थ्य को और भी ज्यादा नुकसान पहुंचा सकते हैं.दुर्भाग्यवश इसका इस्तेमाल करने वाले लोगों ने इसके साइड-इफेक्ट्स भी उजागर किए हैं. ऐसा करने के बाद महिलाओं को चक्कर आना और जलन होने जैसी शिकायतें सामने आ चुकी हैं. इसके बावजूद इस तरह की घटनाएं कम नहीं हो रही हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.