धूमधाम से विसर्जन के लिए निकली दुर्गा प्रतिमाएं, उमड़ा शैलाब

0
133

⏺प्रशासन पर समिति के पदाधिकारियों ने लगाया सहयोग में लापरवाही का आरोप

(सर्वेश गुप्ता)

अंबेडकरनगर। हिंदू धर्म में नवरात्रि का त्योहार बहुत ही धूमधाम से आस्था भक्ति भाव और श्रद्धा के साथ मनाया जाता है। नवरात्रि के प्रथम दिन से ही पूरे भारत वर्ष में दुर्गा प्रतिमाओं का दौर शुरू हो जाता है। बड़े-बड़े ऊंचे भव्य सुंदर पंडाल और मां शेरावाली दुर्गा माता की प्रतिमा की स्थापना पूरे रीति रिवाज धार्मिक परंपरा के अनुसार शुरू होती है और पूरे 9 दिन तक निरंतर चलता रहता है।
इसी कड़ी में नगर पंचायत अशरफपुर किछौछा में दुर्गा प्रतिमाएं 3 दिनों के लिए नगर में विराजमान होते हैं और स्थानीय नगरवासियों के अलावा दूरदराज से लोग भारी संख्या में चलकर आते हैं और माता का दर्शन कर प्रसाद ग्रहण करके भक्तिभाव का रसपान करते हैं।
वही नगर के रसूलपुर दरगाह में नवरात्रि के प्रथम दिन को ही दुर्गा जी की प्रतिमा दर्शन के लिए लगाई जाती है और फिर विसर्जन के दिन नगर किछौछा के प्रतिमाओं के साथ नगर पंचायत अशरफपुर कार्यालय के तिराहे पर मिलते हुए एक साथ टांडा बलुआ घाट विसर्जन के लिए जाती हैं।
बताते चलें कि इस पूरे नवरात्रि के 9 दिन भक्तिभाव की गंगा बहती है जिससे वातावरण भक्तिमय हो जाता है। चारों तरफ माता के जयकारों का बोलबाला होता है। गगनभेदी जयकारों से वातावरण सुगंधित हो जाता है। नगर से प्रतिमाएं जब टांडा बलुआघाट के लिए रवाना हो रही थी तो नगर का भ्रमण करते हुए ढोल बाजा रंग अबीर गुलाल व पुष्प की वर्षा के साथ रवाना होती हैं।
वहीं महिलाओं द्वारा भक्ति संगीत देवी पचरा गीत एवं नगर से विदा करते समय विदाई गीत के साथ अश्रु भरी आंखों से मां को नमन कर अगले वर्ष जल्द आने की विनती करते हुए विदाई करते हैं। इस दौरान नगर वासियों को प्रतिमाओं के विसर्जन के लिए ले जाते समय काफी समस्याओं का सामना करना पड़ा। क्योंकि स्थानीय प्रशासन की निरंकुशता खुलकर सामने आई।
इन सारी व्यवधान और पुलिसिया व्यवस्था से पीड़ित समिति के जिम्मेदारानों ने पुलिस प्रशासन को खूब कोसा। इस दौरान केंद्रीय दुर्गा पूजा समिति के अध्यक्ष भरतलाल गुप्ता ने बताया कि प्रशासन से जो अपेक्षाएं सुरक्षा व्यवस्था के लिए की गई थी, नहीं हो सकी। प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य साहिल सोनी ने बताया कि पुलिस की व्यवस्था पूरी तरह से विफल रहा, पुलिस प्रशासन अपेक्षाओं पर खरा नहीं उतरा।
इस दौरान नगर वासियों के साथ साथ आस-पास के क्षेत्र वासियों ने भी बढ़-चढ़कर इस विसर्जन के कार्यक्रम में हिस्सा लेने पहुंचे। जिसमें राकेश अग्रहरी, संजय, हरिशंकर ,श्यामजी ,सुनील, हरिकेश ,सुभाष साहनी, इंद्रजीत, संतोष कसौधान ,सोनी ,रागनी, अंकिता ,मीनाक्षी के साथ-साथ भारी संख्या में लोग मौजूद रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.