*निषाद नगर वार्ड जलमग्न होने से आफत में पड़ा वार्ड वासियों का जनजीवन*

0
104
*बसखारी अंबेडकर——-* नगर पंचायत अशरफपुर किछौछा के निषाद नगर वार्ड में जनजीवन अस्त-व्यस्त हो चुका है भारी वर्षा के बीच तालाब बना सबसे बड़ा बाढ़ का कारण। वार्ड वासियों ने अधिशासी अधिकारी से लगाई सुरक्षा की गुहार ।
प्राप्त जानकारी के अनुसार भ्रष्टाचार ,अनियमितताओं का बोलबाला ,अराजकता, निरंकुशता का सबब बना नगर पंचायत अशरफपुर किछौछा अक्सर किसी न किसी अपने घटिया कृत्यों से अखबारों और चैनलों की सुर्खियों में रहता है। इसी कड़ी में नगर पंचायत का निषाद नगर वार्ड इस समय पूर्ण रूप से जल मग्न हो गया है ।
और वहां निवास करने वालों का जीवन अस्त-व्यस्त हो चुका है । हर वक्त मौत का खौफ देख लोगों का दिल दहल जा रहा है। क्योंकि इस बाढ़ का सबसे बड़ा कारण जो बन रहा है वह वार्ड में इमिरती तालाब जो काफी लंबा और चौड़ा तालाब है । जिसमे मछली का पालन भी बड़े पैमाने पर किया जाता है ।
तालाब में प्रत्येक दिन पानी भरने का काम जारी रहता है कि किसी दरमियान सूर्य देव के प्रकोप से जहां लोगों को राहत महसूस हुआ है और इंद्रदेव की दया दृष्टि पृथ्वी वासियों पर पढ़ रही है ।
ऐसे मे झमाझम लगातार हो रही बारिश एवं कस्बे का संपूर्ण पानी एक जगह एकत्रित होने के कारण पूरा वार्ड जलमग्न हो चुका है। मकान के दीवारों के गिरने का सिलसिला जारी है तो वही वृक्षों के टूटकर गिरने का भी सिलसिला जारी है ।
इतना ही नहीं वार्ड को सुचारू रूप से संचालित करने वाला मार्ग अधूरा है ।
लगभग 6 महीने पूर्व में रास्ते का निर्माण कार्य शुरू हुआ किंतु आज भी अधूरा है । जिसकी हालत देखकर आसानी से अंदाजा लगाया जा सकता है कि कितना गुणवत्तापूर्ण और कितने नियम कानून एवं जनता की सुविधा को कितना ध्यान में रखकर काम किया जा रहा है। इन सब भारी समस्याओं से जूझते हुए वार्डवासियों ने मनसा बना लिया है कि वह अपने मकानों को छोड़कर पलायन कर जाएंगे ।
ऐसी स्थिति में वार्ड वासियों ने वार्ड के सभासद सुनीता देवी से लिखित रूप से और मौखिक रुप से अपनी समस्या व्यक्त करते हुए निजात दिलाने का काम किया जाएं ।
तो वही सभासद वार्डवासियों की समस्य को महत्त्व ना देते हुए एवं अपने सर से यह बवाल हटाने के लिए वार्ड वासियों से कहा कि नगर पंचायत के साथ अधिशासी अधिकारी के पास जाओ । वहींपर समस्या का निवारण होगा ।
मजबूर वार्डवासी अधिशासी अधिकारी राजमणि वर्मा के पास पहुंचते हैं और लिखित रूप से अपनी समस्या को अवगत कराते हुए मौखिक रूप से संपूर्ण जानकारी दी ।
किंतु अधिशासी अधिकारी का रवैया वार्डवासियों को रास नहीं आया क्योंकि बेतरतीब ढंग से बातें करते हुए अधिशासी अधिकारी ने कहा की जाइए काम हो जाएगा ।
किंतु काम को कौन कहे साहब ए सी में बैठा यह अधिशाषी अधिकारी व नगर के नगर अध्यक्ष ने वार्ड वासियों की समस्या को अपनी आंखों से देखना भी उचित नहीं समझा।
जिससे मजबूर होकर पुनः जब वार्डवासी अधिशासी अधिकारी के पास पहुंचे तो अधिशासी अधिकारी आग बबूला हो गए और कहां की क्या मैं पानी को अपने घर ले जाऊं जाओ यहां से हो जाएगा तुम्हारा काम।
तब से लेकर अभी तक अधिशाषी अधिकारी व नगर अध्यक्ष ने इस मामले को संज्ञान में लेना उचित ही नहीं समझा और वार्डवासियों की समस्या का अभी तक कोई हल नहीं निकल सका है ।वहीं वार्ड वासियों ने कहा कि यदि तालाब में हर रोज भरे जाने वाले पानी को नहीं रोका गया तो मकानों के गिरने का सिलसिला जारी हो जाएगा और ना जाने कितनों की मौत भी हो सकती है। ऐसे में इस समस्या का निदान होना अति आवश्यक है ।
किंतु एक सिरे से मामले को संज्ञान में ना लेते हुए खारिज कर देना और समस्या को देखने तक ना आना यह सीधा सीधा बयां कर रहा है कि नगर अध्यक्ष व अधिशासी अधिकारी और सभासद वार्ड वासियों की समस्या से कोई लेना देना नहीं ।
अब सवाल यह है कि यदि उनके समस्याओं का निदान ये लोग नहीं करेंगे तो आखिरकार कौन करेगा। इस दौरान वार्डवासियो अमीना,शाहीन फात्मा, आलिया, आलम ,अहमद रजा, मोहम्मद, मेहदी हसन ,निजाम, दिनेश, अफरोज अहमद, मोहम्मद अशरफ, मोहम्मद साजिद ,उस्मान, गुलाम अली, शाह ,रजबअली ,अशरफ अली, कासिम, आसिफ, अली मोहम्मद, आदि वार्डवासियों ने लोगों ने लिखित रूप से शिकायत कर चुके हैं ।लेकिन इनके कानो में जू तक नहीं रेंग रहा है।

रिपोर्ट हिन्द मोर्चा टीम अम्बेडकर नगर

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.