पहले आओ-पहले पाओ के सिद्धान्त पर कराया जायेगा उपकरणों का वितरण

0
482
  • चौथे सोमवार व मंगलवार को पहले आओ-पहले पाओ के सिद्धान्त पर निर्धारित यंत्रो तथा उपकरणों का वितरण कराया जायेगा।

अयोध्या 11 जुलाई 2019ः- उप कृषि निदेशक सैयद बदरे आलम ने बताया कि किसान भाइयों के लिये उ.प्र. सरकार की महत्वाकांक्षी योजना कृषि यंत्रीकरण के अन्तर्गत रु 10,000 तक अनुदान वाले शक्ति चलित कृषि यंत्र, कृषि रक्षा उपकरणों को प्रत्येक माह के द्वितीय एवं चतुर्थ सोमवार एवं मंगलवार को विकास खण्ड स्तर पर स्थित रा.कृ.बीज गोदाम पर कृषि यंत्र तथा कृषि रक्षा उपकरण विनिर्माता फर्मों के माध्यम से स्टाल लगाकर पारदर्शी किसान सेवा के पोर्टल पर पंजीकृत कृषकों को जनपद/ विकास खण्ड के निर्धारित लक्ष्य की सीमा तक पहले आओ-पहले पाओ के सिद्धान्त पर निर्धारित यंत्रो तथा उपकरणों का वितरण कराया जायेगा।
उन्होनें बताया कि कृषको को पारदर्शी किसान सेवा योजना पोर्टल के माध्यम से 10,000 तक अनुदान वाले शक्ति चालित कृषि यंत्र, कृषि रक्षा यंत्र उपकरणों पर जनरेट टोकन पर रु 250 की धरोहर धनराशि जमा करनी होगी।
10,000 से अधिक अनुदान वाले शक्ति चालित कृषि यंत्रो/कृषि रक्षा उपकरणो हेतु धरोहर धनराशि रुपया 1,00,000 तक के कृषि यंत्रों हेतु रुपया – 2,500 एवं 1,00,000 से ऊपर के कृषि यंत्रो हेतु रुपया 5,000 जमानत धनराशि होगी (धरोहर धनराशि का अनुदान भुगतान के साथ कृषकों को आनलाइन वापस कर दी जायेगी।
कृषि यंत्र /उपकरण क्रय के समय, क्रय स्थल पर ही उप कृषि निदेशक द्वारा विकासखण्डवार नामित कर्मचारी के माध्यम से सत्यापन किया जायेगा। किसान का पंजीकरण फर्जी या डुप्लीकेट है अथवा किसान पहले उस यंत्र पर अनुदान ( 5 वर्ष के अन्तर्गत ) ले चुका है तो उसे योजनान्तर्गत लाभ देय नही होगा। 10,000 से अधिक अनुदान वाले शक्ति चालित कृषि यंत्रो/कृषि रक्षा उपकरणों पर अनुदान (10 वर्ष के अन्तर्गत) ले चुका है तो लाभदेय नही होगा।
किसान अपनी आवश्यकतानुसार एक से अधिक विभिन्न यंत्रों को क्रय कर अनुदान प्राप्त कर सकता है। परन्तु एक ही कषि यंत्र विशेष पर 5 वर्षों के अन्तर्गत केवल एक ही बार अनुदान प्राप्त कर सकता है। 10,000 से अधिक अनुदान वाले शक्ति चालित कृषि यंत्रो/कृषि रक्षा उपकरणो को एक वित्तीय वर्ष में एक कृषि यंत्र को (10 वर्ष के अन्तर्गत) क्रय कर अनुदान प्राप्त कर सकता है।

रिपोर्ट : हिन्दमोर्चा टीम अयोध्या

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.