अंबेडकरनगरः 104 वर्षीय स्वतंत्रता संग्राम सेनानी में अभी भी है मताधिकार का जज्बा

0
69

⏺ नेताओं की ओछी राजनीति देश को बदनाम एवं कमजोर कर रही है-अभय राज

जलालपुर ,अंबेडकरनगर। कमजोर होती याद दाश्त एवं धुंधली होती नजरों के बावजूद 104 बर्षीय जलालपुर ब्लाक के नत्थूपुर लौधना निवासी स्वतंत्रता संग्राम सेनानी अभय राज सिंह का जज्बा अभी भी बरकरार है। आजादी के बाद हुए हर चुनाव में वोट डाल चुके सिंह इस बार भी अपने मताधिकार का प्रयोग करने के लिए तैयार हैं।

युवाओं के लिए प्रेरणा स्रोत बने अभय राज सिंह अभी भी मतदान केंद्र तक पैदल जाति रहे हैं इस बार भी पैदल जाने के लिए तैयार हैं। नेताजी सुभाष चंद्र बोस की सेना के जवान के रूप में भी कार्य कर चुके श्री सिंह नेताओं के गैर जिम्मेदाराफन से आहत है।

उनका कहना है कि नेताओं की ओछी राजनीति देश को बदनाम एवं कमजोर कर रही है। देश की सुरक्षा करने वाले सेना की कार्यवाही पर सबूत मांगना जायज नहीं है ।जाति धर्म की राजनीति को देश की एकता व अखंडता के लिए खतरा बताया। अपना दर्द कुछ यूं बयां किया।

सन 1942 में गांधी जी से प्रेरित होकर भारत छोड़ो आंदोलन में भाग लेने वाले श्री सिंह आजादी का संस्मरण दिलाने पर जोश से भर उठते हैं और मुस्कराकर, मायूस होकर कहते हैं कि गांधीजी ने जिस आजाद भारत का सपना देखा था वह अभी अधूरा है।

निजी के लिए नेता अवसरवादी हो गए हैं और भ्रष्टाचार देश के लिए कैंसर बन गया है। भारत में अभी समरसता की लड़ाई शेष है इसके लिए युवाओं को आगे आना होगा। उम्र के आखिरी पड़ाव में आए दिन बीमार रहने वाले स्वतंत्रता संग्राम सेनानी को देखने सरकारी स्तर केचिकितूसक घर नहीं आते हैं बल्कि उन्हें ही चिकित्सकों के चक्कर काटने पड़ते हैं। सोमवार को जब इस स्वतंत्रता संग्राम सेनानी को घर जाकर देखा तो उनकी बातों में भी पीड़ा झलकती नजर आई।

रिपोर्ट : हिन्दमोर्चा टीम अम्बेडकरनगर

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.