अम्बेडकर जयंती पर शहर से गांव तक निकला जुलूस, जय भीम के नारे से गुंजा भारत

0
182

हिन्दमोर्चा संवाददाता।महराजगंज।आज संविधान निर्माता बाबा साहब डा•भीमराव अंबेडकर का जन्‍मदिन है। जिसके उपलक्ष्‍य में शहर से लेकर ग्रामीण स्तर पर दलितों के द्वारा जय भीम के नारों के साथ शोभायात्रा निकाली गयी।

14 अप्रेल को भारत रत्न बाबासाहब डॉ.भीमराव अंबेडकर जी की जयंती सम्पूर्ण भारत सहित दुनिया के कई देशों में धूमधाम से मनाई जाती है। इस दौरान ग्रामीणों के साथ बच्‍चें बूढ़े जवान सब ने मिलकर शोभायात्रा निकाली। इस दौरान जय भीम के नारों से गांव और शहरों का हर गली, रास्‍ता गूंज उठा।

मालूम हो कि डा•अम्बेडकर का जन्‍म 14 अप्रैल 1891 को मध्‍य प्रदेश के एक छोटे से गांव महू में हुआ था। उनका परिवार मूल रूप से महाराष्‍ट्र के रत्‍नागिरी जिले के आंबडवे गांव से था। उनके पिता का नाम रामजी मालोजी सकपाल और माता भीमाबाई थीं। डा0अंबेडकर महार जाति से बिलांग करते थे जिसको समाज में अछूत माना जाता था और उनके साथ भेदभाव किया जाता था।

गौरतलब है कि दुनिया की सबसे बड़ी डिग्री धारक अंबेडकर जी बाबा साहेब के नाम से मशहूर हुए। जिन्होंने भारत गणराज्य का संविधान अंगीकृत किया ।वे संविधान प्रारूप समिति के अध्यक्ष मनोनीत किये गए थे।

भारत रत्‍न डा0अंबेडकर की जयंती को भारत में समानता दिवस और ज्ञान दिवस के रूप में भी मनाया जाता है। वह समाज में दलित वर्ग खासकर स्त्रियों को समानता दिलाने के लिए जीवन पर्यन्त संघर्ष करते रहे।

उन्‍होंने दलित समुदाय विशेषकर sc/st/obc के लिए एक ऐसी अलग राजनैतिक पहचान की वकालत की थी जिसके बलबूते आज समाज उनको श्रद्धा नमन करता है और खासकर दलित समुदाय हमेशा उनका ऋणी रहेगा।

संवाददाता:रविशंकर भारती(सदर तहसील प्रभारी )

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.