बालाकोट की तबाही छुपा रहा है PAK, 9 दिन में तीसरी बार बैरंग लौटी रॉयटर्स की टीम

0
103

New Delhi (Agency): बालाकोट में हमले की जगह पहुंचने की कोशिश कर रहे विदेशी मीडिया के पत्रकारों को पाकिस्तान के अधिकारियों ने तीसरी बार लौटा दिया है. अंतरराष्ट्रीय समाचार एजेंसी रॉयटर्स के पत्रकार पिछले 9 दिनों में तीसरी बार जाबा टॉप पर पहुंचने की कोशिश कर चुके हैं,

लेकिन तीनों ही बार पाकिस्तानी अधिकारियों ने रॉयटर्स के पत्रकारों का रास्ता रोक दिया. पाकिस्तानी अधिकारियों ने कहा बालाकोट में स्थित जाबा टॉप पर चढ़ने की कोशिश कर रहे रॉयटर्स की टीम को सुरक्षा कारणों का हवाला देकर वहां जाने से मना कर दिया.

रिपोर्ट के मुताबिक पिछले 9 दिन में तीसरी बार रॉयटर्स की टीम इलाके में पहुंची है. 14 फरवरी को पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर हुए आतंकी हमले में 40 जवान शहीद हो गए थे. 26 फरवरी की देर रात को भारत ने इसका बदला लिया.

भारतीय वायुसेना के विमान मिराज ने रात लगभग 3.30 बजे बालाकोट के जाबा पर बम बरसाए. भारतीय खुफिया एजेंसियों को सूचना मिली थी कि इस जगह पर जैश के ट्रेनर, कमांडर और जिहादी बड़ी संख्या में मौजूद थे.

आतंक पर भारत का एक्शन

भारत के विदेश सचिव विजय गोखले ने 27 फरवरी को कहा कि इस ट्रेनिंग कैंप में छिपे जैश के आतंकियों को भारत ने मार गिराया है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक इनकी संख्या 300 से ज्यादा थी. भारत के हमले के बाद पाकिस्तान ने इस इलाके के आसपास कड़ा पहरा लगा दिया है और किसी को भी ऊपर जाने की इजाजत नहीं है.

जाबा टॉप जाने वाले रास्ते पर खड़े पाकिस्तान के अधिकारियों और सुरक्षा कर्मियों ने रॉयटर्स को कहा कि सुरक्षा कारणों की वजह से किसी को भी वहां जाने नहीं दिया जा रहा है. हालांकि पाकिस्तान की ये सुरक्षा चिंताएं क्या हैं इसकी जानकारी उन्होंने नहीं दी.

इन अधिकारियों ने दावा किया कि भारत की बमबारी में किसी भी बिल्डिंग को नुकसान नहीं पहुंचा है और ना ही इस हमले में किसी की जान गई है. यहां इस बात की चर्चा दिलचस्प है कि अगर पाकिस्तान दावा करता है कि भारत के हमले में किसी तरह का नुकसान नहीं पहुंचा है तो फिर अतंरराष्ट्रीय मीडिया को वहां जाने की मनाही क्यों है?

सच छुपा रहा है पाकिस्तान?

इस्लामाबाद में सेना के प्रवक्ता ने विदेशी मीडिया को इस जगह पर दो बार ले जाने का वादा किया था, लेकिन दोनों ही बार खराब मौसम और दूसरी दिक्कतों का हवाला देकर इस दौरे को टाल दिया गया. सेना के प्रवक्ता ने कहा है कि सुरक्षा कारणों की वजह से कुछ दिन और तक यहां का दौरा संभव नहीं हो पाएगा.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.