कैसे करें SBI ऑनलाइन के जरिए PPF में निवेश, जानिए वो सब कुछ जो आपके लिए जरूरी है

0
178

नई दिल्ली (Agency)। भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) अपने ग्राहकों को ऑनलाइन पीपीएफ खाता खोलने की सुविधा देता है। ऐसे सभी ग्राहक जिनके स्टेट बैंक में एक या उससे ज्यादा खाते हैं, वह सभी पीपीएफ खाता खोलने के लिए एप्लिकेशन फॉर्म को बैंक की आधिकारिक वेबसाइट पर ऑनलाइन भी भर सकते हैं।

एसबीआई ने ग्राहकों की मदद के लिए अपनी वेबसाइट पर इस संबंध में एक वीडियो भी अपलोड किया है। ग्राहक अपना ऑनलाइन पीपीएफ खाता खोलने के लिए जरूरी जानकारियां जैसे शाखा का कोड और नॉमिनी का नाम ऑनलाइन जमा करेंगे। इस फॉर्म को पूरा करने के लिए खाताधारक को अपना फोटो अपलोड करना होगा। जबकि पीपीएफ खाते के लिए शाखा का चुनाव करना होगा।

ग्राहक की ओर से जमा किए जाने वाले केवाईसी दस्तावेज में, पैन कार्ड नंबर और आधार कार्ड की प्रतियों को फॉर्म के साथ भरकर एसबीआई शाखा में जमा करना होगा। पैन कार्ड में 10 अंकों का अल्फान्यूमेरिक नंबर होता है जिसे करदाता को आयकर विभाग की ओर से जारी किया जाता है।

जानिए कैसे खोलें ऑनलाइन खाता?

  • सबसे पहले ग्राहक को स्टेट बैंक के पोर्टल onlineSBI.com पर अपने इंटरनेट बैंकिंग खाते को लॉग इन करना होगा।
  • बैंक की ओर से दी गई जानकारी के मुताबिक, एक बार लॉग इन करने के बाद ग्राहक को ‘नया पीपीएफ खाता’ के विकल्प पर क्लिक करना होगा। ये विकल्प आपको ‘रिक्वेस्ट एंड इंक्वायरी’ सेक्शन में मिलेगा।
  • इसके बाद, ग्राहक को अपने बचत खाते की जानकारी कंप्यूटर स्क्रीन पर नजर आएगी।
  • किसी नाबालिग के लिए खोले जाने वाले पीपीएफ खाते के लिए उपभोक्ता को पेज पर दिए गए सही विकल्प की जांच करनी होगी। इसके अलावा यूजर को अन्य जानकारियां जैसे नाबालिग का नाम और आवेदनकर्ता के साथ उसके रिश्ते के संबंध में भी जानकारी देनी होगी।
  • अगर पीपीएफ खाता किसी व्यस्क के लिए खोला जा रहा है तो यूजर को पसंद के बैंक शाखा का कोड देना होगा। बता दें कि बैंक का शाखा कोड पांच अंक का होता है।
  • यदि ग्राहक को अपनी पसंद की शाखा का कोड नहीं पता है तो वह साइट पर मौजूद ‘ब्रांच लोकेटर’ टूल की मदद से शाखा का कोड ढूंढ सकता है।
  • इसके बाद यूजर को अपने नॉमिनी की जानकारी देनी होगी। एसबीआई ने अपने पीपीएफ खाते के लिए पांच नॉमिनी के चुनाव की सुविधा दी है। इसके अलावा यूजर को अपने नॉमिनी के बीच पीपीएफ खाते की राशि के बंटवारे के अनुपात को चुनने की भी आजादी रहती है। जैसे अगर पीपीएफ खाते में एक उत्तराधिकारी है तो खाताधारक को उस खाते में 100 फीसद राशि मिलेगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.