लोगों को यात्रा हेतु और सुबिधाएं प्रदान करने के बजाय असुविधाओं के दलदल में धकेल रहा है रेलवे बोर्ड

0
26
Ambedkarnagar (Personal Correspondent)l रेलवे बोर्ड ने लखनऊ- वाराणसी वाया फैजाबाद जंक्शन रेलखंड पर चलने वाली ट्रेनों हाबड़ा-देहरादून (दून एक्सप्रेस – 13009अप/13010डाउन), धनबाद – फिरोजपुर बिहार (गंगा – सतलज एक्सप्रेस 13307अप /13308डाउन), इन्दौर-राजेन्द्र नगर बिहार (19321अप/19312डाउन एक्सप्रेस), गांधी धाम- कामाख्या एक्सप्रेस – (15667अप/ 15668 डाउन एक्सप्रेस ) के मार्ग में परिवर्तन कर दिया है।
रेलवे बोर्ड ने उपरोक्त ट्रेनों को जो फैजाबाद जंक्शन से गुजरने वाली इकलौती एक मात्र ट्रेन थी, के मार्ग में परिवर्तन कर देने से जनपद बाराबंकी, जनपद फैजाबाद, जनपद अंबेडकर नगर, जनपद शाहगंज, जनपद आजमगढ़, जनपद जौनपुर के क्षेत्रवासियों को अत्यंत दुश्वारियों का सामना करना पड़ रहा है।
सर्वप्रथम दून एक्सप्रेस के विषय में कहना चाहता हूं। विदित हो कि कोलकाता जाने के लिए इस रेलखंड पर अंग्रेजों के जमाने से मात्र दो अदद यात्री ट्रेन हाबड़ा- देहरादून एक्सप्रेस एवं सियालदाह- जम्मूतवी एक्सप्रेस आधुनिक भारत के इस युग में भी चल रही है। अब दून एक्सप्रेस का मार्ग परिवर्तित कर दिया है जिससे अब कोलकाता जाने के लिए केवल एक ट्रेन सियालदह – जम्मूतवी ही रह गई है। जबकि विगत कुछ वर्षों से इस रेलखंड पर करीब दो दर्जन नई ट्रेनों का संचालन हो रहा है।
जनपद बाराबंकी, जनपद फैजाबाद, जनपद अंबेडकर नगर, जनपद शाहगंज, जनपद आजमगढ़, जनपद जौनपुर के कई लाख की संख्या में यहां के मूल निवासी द्वितीय विश्व युद्ध के पहले से ही जाकर स्थाई रूप से कोलकाता में बसें हैं।
आज की तारीख में कोलकाता शहर के एक- दो नही, बल्कि कई बड़े- बड़े मोहल्लों में इन्ही की संख्या बाहुल्य है। मसलन- मानिकतल्ला, कालीतल्ला, चलताबगान, बुआबगान, फूलबगान, हाथीबगान, काकुरगाछी, ठनठनिया, ओरियंटन, मलिक बाजार, हावड़ा….. और न जाने कितने मुहल्लों में इन्ही लोगों की पहचान बाहुल्य है।ये सभी लोग कोलकाता में कारोबार के उच्च शिखर पर हैंl
जनपद अंबेडकर नगर बुनकर बाहुल्य क्षेत्र है। इस पूरे क्षेत्र में 2 लाख से अधिक पावर लूम चलते हैं। प्रतिदिन अरबों रुपए का वस्त्र तैयार होतें है। इन बुनकरों के द्वारा तैयार किये गये वस्त्रों की बहुत बड़ी मंडी कोलकाता के जकरिया स्ट्रीट (बड़ा बाजार) में है। पूरे जकरिया स्ट्रीट में यहां के बुनकरों का आफिस, दूकान व आवास है। इन बुनकरों का कोलकाता आवागमन प्रतिदिन होता रहता है।
चूंकि कोलकाता से चलने वाली उक्त दोनों ट्रेनों की बोगियां लम्बी दूरी के यात्रियों से ठसाठस भरी रहती है, नतीजतन इन क्षेत्रों के लोगों को कोलकाता आने-जाने में बहुत ही दुश्वारियों का सामना करना पड़ता है, सुगमता से आरक्षण नही मिल पाता। चूंकि दून एक्सप्रेस(13009 // 13010) के मार्ग को परिवर्तित कर दिया गया है, ऐसे विषम हाला