देखिए वीडियो, अंबेडकरनगर के बीजेपी अध्यक्ष कैसे संगठन को कर रहे हैं कमजोेर, पार्टी के बूथ अध्यक्ष व उसके समर्थन में तीन मण्डल अध्यक्षों ने प्रदेश नेतृत्व को बताये दास्तान और लगाये आरोप

0
1155
लखनऊ (HM News)। सैकड़ों वर्ष से भारतीय संस्कृति के प्रतीक रामजन्म भूमि का शिलान्यास होने के साथ-साथ कश्मीर समस्या समेत मजबूत विदेश नीति के बावजूद भी आखिर! अंबेडकरनगर में विश्व की सबसे बड़ी राजनैतिक पार्टी भाजपा क्यों नहीं मजबूत हो पा रही है? यह बहुत बड़ा विचारणीय और यक्ष प्रश्न समर्थकों व कार्यकर्ताओं के मन में बार-बार उठता है, इनके सबके बावजूद भी अंबेडकरनगर में पार्टी दिन प्रतिदिन बद से बदतर स्थिति में होती जा रही है। प्रदेश नेतृत्व से भले ही झूठे आकड़ों के बदौलत अपनी पीठ थपथपवायी जा रही है लेकिन धरातल पर देखा जाय तो जिले में 50 प्रतिशत से ज्यादा बूथ कमेटियों का शायद ही धरातल पर गठन हो पाया हो।
जब इसके तह में जाया जाता है तो पता लगता है कि वर्तमान में अंबेडकरनगर की जिला कमेटी पूरी तरह से सपा, बसपा के हाथों में खेल रही है, इसके कई ज्वलन्त उदाहरण जिले में सुनने में आते रहते है। अभी जल्द ही एक मामला आलापुर विधान सभा अन्तर्गत रामनगर ब्लाक के गोविन्द साहब मण्डल का हैं जिसमें दुर्गीपुर के बूथ अध्यक्ष शिवांस मिश्र के घर की नाली बंद है जिसकों खोलने के लिए ब्लाक व तहसील प्रशासन पूरी तरह से तत्पर है लेकिन सुनने में यह आता है कि जिलाध्यक्ष कपिलदेव वर्मा व प्रदेश से जिले को सुधारने के लिए भेजे गये महामंत्री डाॅ. मिथिलेश त्रिपाठी सहित कई बड़े नेता सपा, बसपा के इशारे पर कुछ बूथ अध्यक्ष का नाली खुलने में बाधक बन रहे हैंl
जांच में यह भी तथ्य आया है कि 20 वर्ष पुराने खड़ंजे के बीच सेे अण्डर ग्राउण्ड नाली बनायी जायेगी ताकि आवागमन में किसी को कोई परेशानी न होने पाये, इसके बावजूद भी उसकों परेशान करने की नीयत से वह नाली नहीं बन पा रही है, इतना ही नहीं नाम न छापने की शर्त पर कई भाजपाइयों ने बताया कि उप जिलाधिकारी आलापुर द्वारा एक टीम बनायी गयी थी जो मौके पर जाकर उस नाली का निर्माण करायेगी लेकिन जिलाध्यक्ष और उनकी कमेटी के दबाव में गांव पंचायत का सिक्रेटरी ऐन मौके पर हट गया और नाली का निर्माण नहीं हो पाया है।

भाजपा के बूथ अध्यक्ष शिवांस के घर पर इन दिनों जल निकासी न होने के कारण पूरा जल भराव की स्थिति उत्पन्न हो गयी है, जिसे सोशल मीडिया पर वायरल वीडियों से स्वतः ही देखा जा सकता है। अब प्रश्न उठना स्वाभाविक है कि जब बूथ अध्यक्ष हैरान, परेशान अपनी सरकार में अपने ही जिलाध्यक्ष और उसकी कमेटी से है तो फिर भी आमजन का क्या होगा? इसका सहज ही आकलन किया ही जा सकता है। इसी प्रकार की खिस्सा कहानी जब से कपिलदेव जिलाध्यक्ष बने है जिले में चल रही है।
पहले उनके सहयोगी की भूमिका कटेहरी से अपने कर्मो के कारण चुनाव हार चुके बाबा जी निभाते थे, अब उनका स्थान डाॅ. मिथिलेश ले चुके है। यदि समय रहते भाजपा प्रदेश नेतृत्व द्वारा जिलाध्यक्ष और जिला महामंत्री के क्रिया कलापों पर लगाम नहीं लगायी गयी तो जलालपुर विधान सभा के उप चुनाव और 2019 के लोक सभा वाली हालत जिला पंचायत, स्थानीय निकाय के विधान परिषद में होना स्वाभाविक लग रहा है, क्यों कि दिल्ली से लेकर यूपी तक प्रचण्ड बहुमत की सरकार होने के बावजूद भी बीजेपी के कार्यकर्ता जिले में बसपाइयों और सपाइयों के द्वारा प्रताड़ित हो रहे हैं जिसमें सपाइयों, बसपाइयोें के साथ जिलाध्यक्ष और उनकी कमेटी खड़ी मिल रही है।
इसी प्रकार की एक घटना अकबरपुर विधान सभा क्षेत्र की है जहां एक सपाई को बचाने के लिए 12 से 15 घर प्रजापतियों का रास्ता इसलिए जिलाध्यक्ष नहीं पटने दे रहे हैं क्यों कि वह सपा के पूर्व मंत्री का चहेता है, इस मामले का पूरा विवरण जल्द ही सचित्र आप सुधि पाठकों को पढ़ने के लिए उपलब्ध होगा। उल्लेखनीय है कि दुर्गीपुर बूथ अध्यक्ष शिवांस मिश्र के समर्थन में आलापुर विधान सभा के तीनों मण्डल अध्यक्षों ने पत्र लिखकर प्रदेश नेतृत्व से गुहार भी लगायी है जिसमें गोविन्द साहब मण्डल के बूथ अध्यक्षों व पदाधिकारियों का हस्ताक्षर और समर्थन भी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.