पुलिस लाइन का मुंशी कहता है मेरा ख्याल रखोगी तो… अविवाहित महिला सिपाही का यौन शोषण, मचा हंगामा

0
337
रांची (Agency)। झारखंड के शिक्षा विभाग के व्‍हाट्सएप ग्रुप में अश्‍लील वीडियो और तस्‍वीरें डाले जाने का मामला अभी ठंडा भी नहीं पड़ा कि राज्‍य के पुलिस महकमे से चौंकाने वाली खबर आई है। यहां पुलिस लाइन के एक मुंशी पर संगीन आरोप लगे हैं। वह महिला सिपाहियों के बैरक में किसी भी टाइम घुस जाता है और अश्लील हरकत करता है। महिला सिपाहियों से कहता है तुम लोग मेरा ख्याल रखो मैं तुम लोगों का ख्याल रखूंगा। कहीं दिक्कत नहीं आने दूंगा।
मामला सामने आने के बाद फौरन जांच बिठा दी गई है। एक अविवाहित महिला सिपाही ने मुंशी के खिलाफ नीचे से ऊपर तक शिकायत की है। उसने यौन शोषण का आरोप लगाया है। राजधानी रांची के पुलिस लाइन में एक सनसनीखेज मामला सामने आया है। एक महिला पुलिसकर्मी ने पुलिस लाइन के मुंशी के खिलाफ ड्यूटी देने के नाम पर यौन शोषण का आरोप लगाया है।
इसकी शिकायत आईजी, डीआईजी रांची के एसएसपी सहित कई अधिकारियों से की गई है। इसकी प्रतिलिपि मुख्यमंत्री, गृह सचिव और मुख्य सचिव को भी दी गई है। शिकायत के बाद रांची के एसएसपी ने मामले की जांच शुरू कर दी है। यह गंभीर आरोप पुलिस लाइन में पोस्टेड मुंशी विजय कुमार यादव पर लगा है। उसके खिलाफ महिला सिपाही ने आरोप लगाया है कि ड्यूटी बांटने के नाम पर यौन शोषण किया गया है।
महिला सिपाहियों के बैरक में किसी भी टाइम घुस जाता है और अश्लील हरकत करता है। महिला सिपाहियों से कहता है तुम लोग मेरा ख्याल रखो मैं तुम लोगों का ख्याल रखूंगा। कहीं दिक्कत नहीं आने दूंगा। महिला सिपाहियों से खाने के लिए चिकन और अन्य सामान बनाने के लिए भी कहता है। इसके साथ ही ड्यूटी बांटने में वसूली भी करता है। इन गंभीर आरोपों की शिकायत मिलने के बाद रांची के एसएसपी अनीश गुप्ता ने पुलिस लाइन के सार्जेंट मेजर को पूरी जांच कर रिपोर्ट सौंपने का निर्देश दिया है।

अविवाहित है महिला सिपाही, तय हो चुकी है शादी

महिला सिपाही ने अपनी शिकायत में बताया है कि वह अविवाहित है। उसकी शादी तय हो चुकी है। इस तरह मुंशी से प्रताड़ित होने के बाद वह परेशान है। पीड़‍ित महिला सिपाही आदिवासी है। हालांकि पुलिस के वरीय अधिकारियों ने इन आरोपों की सच्चाई का पता लगाने के लिए जांच शुरू कर दी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.